कुछ खास उपहार जो दीपावली के दिन किसी को भी ना दे

कुछ खास उपहार जो दीपावली के दिन किसी को भी ना दे

Spread the love

जैसा की हम सभी जानते दीपावली की रात काफी महत्वपूर्ण मानी जाती है । दीपावली खुशियों का त्योहार माना जाता है । दीपावली के दिन हम अपने परिवार के सदस्य और दोस्तों के साथ उपहारों  का कभी आदान प्रदान करते हैं क्योंकि उपहार अपनों की खुशी के लिए आप अपनों को भेंट के तौर पर देते हैं और इससे घर में खुशी का माहौल बनता है और जहां खुशियां होती है वही सुख और शांति भी होती है जिससे मां लक्ष्मी प्रसन्न होकर घर में स्थाई रुप से वास करती हैं ।

– स्टील या लोहे से बनी किसी प्रकार की कोई भी वस्तु भेट के तौर पर किसी को ना दे हो सके तो यह अपने लिए या अपने घर के लिए खरीद कर लेकर आए ।

– सिल्क से बनी हुई किसी प्रकार की कोई भी वस्त्र किसी को भेंट के तौर पर ना दे हो सके तो दीपावली के दिन आप स्वयं ही सिल्क का कपड़ा पहन कर पूजा करें क्योंकि इससे लक्ष्मी मां प्रसन्न होती है ।

– जैसा कि हम सभी  दीपावली के दिन हम गणेश और लक्ष्मी जी का पूजन करते हैं तथा पूजन समाप्त होने के बाद उनसे अपनी मनचाही मनोकामना भी मांगते हैं इसीलिए दीपावली के दिन गलती से भी किसी को उपहार के तौर पर गणेश या लक्ष्मी जी की मूर्ति ना दें या कोई भी ऐसी कोई भी ऐसी चीज ना दें जिस पर गणेश लक्ष्मी जी की तस्वीर बानी हो क्योंकि ऐसा करने से आपके घर की लक्ष्मी उसके घर चली जाती है ।

– दीपावली के 5 दिन पहले से ही तेल या लकड़ी से बनी हुई कोई भी वस्तु या चीज खुद के लिए ना खरीदे ना ही किसी को उपहार के तौर पर दें ।

-दीपावली के दिन भेट के तौर पर रुमाल किसी को ना दे क्योंकि रुमाल पसीने साफ करने के काम में आता है अगर आप किसी को भी रुमाल पेट के तौर पर देते हैं तो उससे यह होता है कि आप उसे अपनी सारी नकारात्मक ऊर्जा भी भेट के तौर पर देर है और दीपावली तो दूसरों को खुशियां बांटने का त्योहार माना जाता है इसलिए किसी को भी रुमाल भेट के तोर पे न दे  ।

– दीपावली के दिन कभी भी काले कपड़े का इस्तेमाल ना करें ना किसी को उपहार के तौर पर देना ही खुद ही इस्तेमाल करें क्योकि इसे शुभ नहीं माना जाता है ।

-दीपावली के दिन कछुए के आकार का बना हुआ कोई भी वस्तु किसी को उपहार के तौर पर ना दें क्योंकि कछुआ लक्ष्मी का प्रतीक माना जाता है और दीपावली पूजन के दिन पर कभी भी अपने घर की लक्ष्मी दूसरे को उपहार के तौर पर नहीं देनी चाहिए ।

Leave a Reply