जानिए पूजा पाठ करने के कुछ अद्भुत तरीके

जानिए पूजा पाठ करने के कुछ अद्भुत तरीके

Spread the love

पांच देवता गणेश जी लक्ष्मी जी सूर्य भगवान शंकर भगवान विष्णु भगवान की पूजा नित्य प्रतिदिन करनी चाहिए।

आप इस बात का अत्यधिक ध्यान रखें कि भगवान पर जिन पुष्पों को आप चढ़ाते हैं उन्हें आप हमेशा स्नान करने के बाद ही तोड़े।

तुलसी पत्ता बेल का पत्ता कमल का फूल कभी भी बासी नहीं माना जाता है इसीलिए आप इसे 1 दिन पहले भी लाकर रख सकते हैं तथा गंगाजल को भी आप कभी भी लाकर रख सकते हैं  क्योंकि यह भी कभी कभी बासी या अशुद्ध नहीं होता है

पूजा करते समय यदि आप किसी देवी देवता को  चंदन का तिलक लगा रहे हो तो इस बात का ध्यान रखें कि आप हमेशा अनामिका उंगली का प्रयोग करें लगाने में।

भगवान शिव की पूजा कभी भी केतकी के फूलों के साथ नहीं करनी चाहिए क्योंकि भगवान शिव केतकी को श्राप दिया था।

भगवान सूर्य की पूजा में कभी भी अशोक के फूलों का इस्तेमाल ना करें क्योंकि से शुभ नहीं माना जाता भगवान पूजा सूर्य की पूजा में।

भगवान श्री गणेश की पूजा में कभी भी तुलसी के पत्तों का इस्तेमाल ना करें।

यदि आप अपने घर के पूजा मंडप  में किसी प्रकार का कोई भी कलश रखते हैं तो इस बात का ध्यान रखें कि वह कलश पूजा मंडप के ईशान कोण में रखें क्योंकि ऐसा माना जाता है यदि आप ईशान कोण में कलश रखते हैं तो उसमें वरुण देव का निवास होता है।

यदि आप मंडप में दीपक जलाते हैं तो इस बात का ध्यान रखें कि घी के दीपक को बाई और तथा तेल के दीपक को दाई ओर जलाएं।

यदि आप घर में हवन करते हैं तो इस बात का ध्यान रखें कि हवन हमेशा मंडप के नीचे अग्नि कोण की दिशा में ही करें इससे अग्नि देव प्रसन्न होते हैं।

भगवान सूर्य को कभी भी सिर्फ जल नहीं चढ़ानी चाहिए जल चढ़ाते समय जल के अंदर गेहूं या रक्षा धागा  लाल फूल डालकर ही उन्हें जल चढ़ाएं।

Leave a Reply