अपनी बालकनी और छत में आप भी रखें ये चीजें, नहीं रहेगी धन की परेशानी

घर का हर कोना आपके लिए बेहद खास होता है, मगर बालकनी और छत एक ऐसी जगह है जहां आप खुले में बैठकर खुद को तरोताजा महसूस करते हैं। बालकनी और छत एक ऐसा झरोखा जिससे बाहर की दुनिया का खूबसूरत नजारा मिलता है। अगर आपके घर की बालकनी वास्तु के नियमों के अनुसार नहीं बनी हो तो वास्तु विज्ञान के अनुसार फुर्सत का पल भी बोझिल हो सकता है। अगर आप अपनी बालकनी में इन  चीजों को रखेंगे तो न सिर्फ आपके बालकनी और छत का वास्तु दोष खत्म होगा, बल्कि आपके घर में धन की परेशानी भी नहीं होगी ।

नॉर्थ ईस्ट में बालकोनी में तुलसी का पौधा रखें और कुछ नहीं रखना चाहिए यह स्थान पूजा पाठ का है। बालकनी के उत्तर दिशा में मनी प्लांट का पौधा लगाएं। इससे आपके घर में ठंडक रहने के साथ ही सकारात्म ऊर्जा भी आती है। इस दिशा को धन का कोना या कुबेर दिशा कहा जाता है। साउथ वेस्ट के बालकोनी में जितना हो सके भारी समान या फूल का गमला लगाना चाहिए।

 

अपने गार्डन में परिजात का पौधा जरूर लगाएं इससे पॉजिटिव एनर्जी मिलती है। साउथ के गार्डन में भारी भारी पत्थर से गार्डन को सजाना चाहिए। अपने गार्डन में नॉर्थ ईस्ट में पानी का फव्वारा लगाएं या बालकोनी या छत में भी लगा सकते हैं । नॉर्थ दिशा में पानी हो तो शुभ माना गया है।

 

साउथ और साउथ ईस्ट के बालकोनी में कपड़े नहीं धोने चाहिए या स्थान किचन का है  इसमें रेड कलर करवाएं।

 

अपने छत पर भारी गमला या मिट्टी का गमला या भारी समान नहीं रखना चाहिए छत को साफ सुथरा रखना चाहिए इससे घर में घर के सदस्यों में टेंशन नहीं होती है। अपने घर में टूटे हुए सामान बहुत दिन तक नहीं रखना चाहिए या या छत और बालकोनी में भी नहीं रखना चाहिए कुछ सामान खराब या बंद है तो भी नहीं रखना चाहिए। अपने छत पर लकड़ी लोहा इंधन का सामान नहीं रखना चाहिए या भी शुभ नहीं माना गया है।

 

बालकनी का इस्‍तेमाल लोग स्‍टोर रूम की तरह करते हैं और पुरानी वस्‍तुएं और खराब पड़े सामान उसमें भर देते हैं। ऐसा करने से घर में नकारात्‍मक ऊर्जा प्रवेश करती है। स्टोर रूम वेस्ट दिशा में होना चाहिए जिससे घर में बरकत आती है और सामान भी जल्द समाप्त नहीं होता है।

 

किस दिशा में हो बालकनी

  1. भूमि का मुख पूर्व दिशा की ओर होने पर बालकनी पूर्व अथवा उत्तर दिशा की ओर होनी चाहिए।
  2. भूमि का मुख पश्चिम दिशा की ओर होने पर बालकनी पश्चिम अथवा उत्तर दिशा में होना शुभ फलदायी होता है
  3. उत्तरमुखी भूमि में बालकनी पूर्व या उत्तर दिशा में होने पर घर में सकारात्मक उर्जा की वृद्धि होती है।
  4. दक्षिण दिशा में भूमि का मुख होने पर बलकनी पूर्व दिशा में हो तो ज्यादा अच्छा होता है लेकिन किसी कारण पूर्व दिशा में बालकनी नहीं होने पर दक्षिण दिशा का में बालकनी का होना फायदेमंद होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *