जानिए वास्तु अनुसार किचन कहां होना चाहिए

यदि घर के उत्तर दिशा में किचन है तो इससे घर की महिलाओं की तबीयत हमेशा खराब रहती है इसलिए किचन में  एक शीशे की कटोरी में फिटकरी भरकर रखें।

घर में हमेशा किचन अग्नि कोण में ही बनवाने चाहिए और वह कोना घर के पूरब और पश्चिम के कोने को कहा जाता है

घर के रसोई में दाहिनी ओर पानी का स्रोत है तो घर में किसी न किसी सदस्य को हमेशा शुगर या ब्लड प्रेशर की बीमारी होती ही रहती है इसीलिए आप पानी के स्रोत को बाई और बनाएं।

आप इस बात का अत्यधिक ध्यान रखेगी किचन में विद्या पीठ के पीछे दरवाजा नहीं होना चाहिए क्योंकि यह शुभ नहीं माना जाता है।

किचन में काटने वाली चीजें जैसे की छोरी चाकू इत्यादि पश्चिम की दिशा में रखनी चाहिए।

यदि आप अपने किचन में ही अनाज रखते हैं तो उसे पश्चिम या दक्षिण की तरफ रखनी चाहिए इससे बरकत आती है।

किचन के दरवाजे के ठीक सामने कभी भी बाथरूम का दरवाजा नहीं होना चाहिए क्योंकि इसे शुभ नहीं माना जाता है।

किचन में कभी भी टूटे बर्तन ना रखे ना ही उनका इस्तेमाल करें ऐसा करने से घर में हमेशा लड़ाई झगड़े होते रहते हैं और तनाव का माहौल छाया रहता है।

आप जब भी किचन में खाना बना रहे हो तो इस बात का ध्यान रखें कि आपका मुंह पूरब की ओर ही हो क्योंकि  ऐसा होने को  शुभ माना जाता है।

किचन में कभी भी काले या नीले रंग के टाइल्स या मार्बल ना लग  क्योंकि यह रंग किचन के लिए शुभ नहीं है इसे हमेशा घर में कोई न कोई बीमार रहता है या घर में तनाव छाया रहता है।  इस वास्तु दोष को खत्म करने के लिए आप अपने किचन में ब्लैक टोरमरिक का पत्थर रखे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *