जानिए किस तरह करें पूजा जिससे मिले पूजा का पूरा फल

पूजा हमेशा आसन पर बैठकर ही करनी चाहिए और इस बात का अत्याधिक ध्यान रखना चाहिए कि  आसान कुश या ऊनि  चटाई ही होनी चाहिए। बिना आसन पर बैठे पूजा करने से उस पूजा का कोई फल नहीं मिलता है और एक बात का ध्यान रखें की  चटाई का रंग काला नहीं होना चाहिए और  किसी पशु के छाल का बना हुआ आसन पर बैठकर भी पूजा नहीं करनी चाहिए ।

पूजा की सारी सामग्री डिब्बे में बंद कर कर रखें।  यदि आप रोज माला फेरते हैं तो इस बात का ध्यान रखें कि वह माला तुलसि या चंदन की लकड़ी की बनी हों और लक्ष्मीजी को प्रसन्न करने के लिए स्फटिक का माला प्रयोग करें इससे लक्ष्मी मां जल्दी प्रसन्न होती है सीप या  शंख की माला का प्रयोग ना करें ।

पूजा करने का एक समय निश्चित कर ले और रोजाना उसी समय पर पूजा किया करें ऐसा करने का यह कारण है कि आपका ध्यान उस समय पूजा पर ही केंद्रित रहेगा अन्य किसी बात पर नहीं।

पूजा का स्थान हमेशा घर के ईशान कोण में ही बनवाना चाहिए और इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए कि पूजा स्थान के आसपास टॉयलेट या बाथरूम ना हो और पूजा का स्थान ऐसी जगह पर भी होना चाहिए जहां पर हमेशा शांति बनी रहती हो।

सनातन धर्म के अनुसार यदि पुरुष धोती पहनकर और स्त्री लाल रंग की साड़ी पहन कर पूजा करें तो इससे पूजा का फल अधिक मिलता है तथा पूजा का महत्व भी बढ़ जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *